September 17, 2019
Home Tags Literature

Tag: literature

Hand Washing

Harshita Kashyap Whenever on the playground we crawl, Or while playing we have a nasty fall, Whenever we play and win basketball, One thing needs to be followed by all. Before having our yummy food in...
Megha Katoria

I Have Grown Up

Megha Katoria I have grown up, Always wanting to grow up quickly as a child, Yes, I have grown up… Now life seems a bit dreary, Quivers of emotional spasms, Creating freezing numbness in my thoughts. Downy flakes...
Anamika Malhotra

माँ

अनामिका मल्होत्रा  माँ तू अनूप है, 'इश्क़' का स्वरुप है, आप ही की दें से, ये मेरा रंग रूप है... माँ से ही आरम्भ मेरा, माँ ही मेरा अंत है, क्या क्या न तुझको उपमा दूँ, तूने जो सिखाया...
Deepak Bhardwaj

उम्मीद का धुंआ

दीपक भारद्वाज एक गांव से निकलते हैं जब नन्हे-नन्हे कदम किसी सुदूर देश की सरहद के लिए फिर वापिस, आ पाते हैं बहुत ही कम क्योंकि वो नहीं देखते निकलने के लिए ऐसा मुहूर्त कि जिससे उनके कदमों के...
Ashok Dard

लड़कियां

अशोक दर्द, गांव घट्ट, डाकघर शेरपुर, तह डलहौजी, जिला चम्बा, हिमाचल प्रदेश धान की पनीरी की तरह पहले बीजी जाती हैं लड़कियां थोड़ा सा कद बढ़ जाये थोड़ा सा रंग निखर आये तो उखाड़ कर दूसरी जगह रोप दी...
Dr. Anjali Dewan, Shimla

Identity

Dr. Anjali Dewan, Shimla I am like a drop of water in the sea, With no name, no identity, A part of the whole. Though you can see me, look for me, But unable to separate...
अभिमन्यु कमलेश राणा

पतंग की डोर

अभिमन्यु कमलेश राणा उसे ढील दो है पतंग की डोर जो छूना चाहते गर आसमानों को औरों को भी उड़ने दो पेंच लड़ाने उलझे जो थाम लोगे अपनी उड़ान को सफर उन्हें भी तय करने दो काट दी भी...