Home Tags Poems

Tag: poems

Sahaj Sabharwal

Mother

Sahaj Sabharwal  You are my pain curing, You are my thoughts hearing, You are my progress rising, That's why soul of mine is good. I am trying to be good, Don't worry I am like developing wood, Your...
Sitaram Sharma

दुनिया

सीताराम शर्मा सिद्धार्थ संभल के चल इस डगर  चाहतें दम तोड़ती हैं यहां, रख तेज नजर पंखों पे हवा भी रुख बदलती है यहां, सेहत के लिए खराब  है कितना भी लिख लो, फिर भी ...
Dimple Thakur

अजनबी

डिम्पल ठाकुर (हिना) जब हम अजनबी हो जाएंगे, तुम मुझे देख कर नज़रे फेर लोगे, मैं तुम्हें देख कर नज़रे झुका लूंगी। दिल की बात होंठों तक आते-आते, ज़ुबान पर ही ठहर जाएगी, पर आँखों में झलक...
Anamika Malhotra

माँ

अनामिका मल्होत्रा  माँ तू अनूप है, 'इश्क़' का स्वरुप है, आप ही की दें से, ये मेरा रंग रूप है... माँ से ही आरम्भ मेरा, माँ ही मेरा अंत है, क्या क्या न तुझको उपमा दूँ, तूने जो सिखाया...
Deepak Bhardwaj

उम्मीद का धुंआ

दीपक भारद्वाज एक गांव से निकलते हैं जब नन्हे-नन्हे कदम किसी सुदूर देश की सरहद के लिए फिर वापिस, आ पाते हैं बहुत ही कम क्योंकि वो नहीं देखते निकलने के लिए ऐसा मुहूर्त कि जिससे उनके कदमों के...
Ashok Dard

लड़कियां

अशोक दर्द, गांव घट्ट, डाकघर शेरपुर, तह डलहौजी, जिला चम्बा, हिमाचल प्रदेश धान की पनीरी की तरह पहले बीजी जाती हैं लड़कियां थोड़ा सा कद बढ़ जाये थोड़ा सा रंग निखर आये तो उखाड़ कर दूसरी जगह रोप दी...
अभिमन्यु कमलेश राणा

पतंग की डोर

अभिमन्यु कमलेश राणा उसे ढील दो है पतंग की डोर जो छूना चाहते गर आसमानों को औरों को भी उड़ने दो पेंच लड़ाने उलझे जो थाम लोगे अपनी उड़ान को सफर उन्हें भी तय करने दो काट दी भी...
Deepti Saraswat Writer

सोचती हूँ — दीप्ति सारस्वत का काव्य संग्रह विमोचन

कीकली रिपोर्टर, 25 दिसंबर, 2018, शिमला हिमाचल की बेटियाँ किसी से कम नहीं, इसका ज्वलंत उदाहरण आज क्रिसमस के अवसर पर राजधानी दिल्ली में उस समय देखने को मिला जब कलम की...
Uma Thakur Writer

क्रिसमस

उमा ठाकुर, शिमला सैंटा क्लाज पोटली समेटे, घूम रहा है शहर–शहर, गाँव–गाँव, गली-गली में, तौहफ़ों का अंबार यिशु का प्यार लिए ।। शहर-शहर सैंटा बना क्रिसमस पार्टी की शान, बाँट रहा है तौहफ़े, काटे जा रहे...
Sitaram Sharma Siddharth

कुत्ते कविता और मैं 

सीताराम  शर्मा  सिद्धार्थ कुत्ते कविता और मैं हम तीनों साथ रहते हैं सुबह होती है मैं सोया पड़ा हूं सबसे पहले  कुत्ते भौंक कर भरते हैं वातावरण में चैतन्यता मुझे जगाते हैं  उन्हें भी जगाते हैं जो अभी...