Home Tags Poetry

Tag: poetry

सच्च की लेखनी से साहित्य की ओर बड़ो — मुख्य अतिथियों द्वारा छात्र छात्राओं...

कुलदीप वर्मा, कीकली रिपोर्टर, 15 जून, 2019, शिमला राजधानी शिमला के गेयटी थियेटर में कीकली ट्रस्ट व भाषा एवं संस्कृति विभाग के सौजन्य से चित्रकला प्रतियोगिता व कविता और कहानी प्रतियोगिता का...

ब्लू बेलज स्कूल ढली में कहानी, कविता व भाषण प्रतियोगिता

कीकली रिपोर्टर, 12 जून, 2019, शिमला ब्लू बेलज स्कूल ढली ने कहानी, कविता व भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया। हिमाचल की लोक संस्कृति, स्वच्छ भारत भाषण व कविता के विषय थे। जिसमें...
Poetry - Loreto Convent Tara Hall Shimla

Life’s Contemplation via Poetry at Tara Hall

Ritanjali Hastir, Associate Editor, 29th March, 2019, Shimla Do not recite words just to prove to yourself and others that you know and love, instead, put truth in your every word and...
Sahaj Sabharwal

Mother

Sahaj Sabharwal  You are my pain curing, You are my thoughts hearing, You are my progress rising, That's why soul of mine is good. I am trying to be good, Don't worry I am like developing wood, Your...
Sitaram Sharma

दुनिया

सीताराम शर्मा सिद्धार्थ संभल के चल इस डगर  चाहतें दम तोड़ती हैं यहां, रख तेज नजर पंखों पे हवा भी रुख बदलती है यहां, सेहत के लिए खराब  है कितना भी लिख लो, फिर भी ...
Megha Katoria

I Have Grown Up

Megha Katoria I have grown up, Always wanting to grow up quickly as a child, Yes, I have grown up… Now life seems a bit dreary, Quivers of emotional spasms, Creating freezing numbness in my thoughts. Downy flakes...
Anamika Malhotra

माँ

अनामिका मल्होत्रा  माँ तू अनूप है, 'इश्क़' का स्वरुप है, आप ही की दें से, ये मेरा रंग रूप है... माँ से ही आरम्भ मेरा, माँ ही मेरा अंत है, क्या क्या न तुझको उपमा दूँ, तूने जो सिखाया...
Deepak Bhardwaj

उम्मीद का धुंआ

दीपक भारद्वाज एक गांव से निकलते हैं जब नन्हे-नन्हे कदम किसी सुदूर देश की सरहद के लिए फिर वापिस, आ पाते हैं बहुत ही कम क्योंकि वो नहीं देखते निकलने के लिए ऐसा मुहूर्त कि जिससे उनके कदमों के...
Ashok Dard

लड़कियां

अशोक दर्द, गांव घट्ट, डाकघर शेरपुर, तह डलहौजी, जिला चम्बा, हिमाचल प्रदेश धान की पनीरी की तरह पहले बीजी जाती हैं लड़कियां थोड़ा सा कद बढ़ जाये थोड़ा सा रंग निखर आये तो उखाड़ कर दूसरी जगह रोप दी...
Dr. Anjali Dewan, Shimla

Identity

Dr. Anjali Dewan, Shimla I am like a drop of water in the sea, With no name, no identity, A part of the whole. Though you can see me, look for me, But unable to separate...