कुलदीप वर्मा, कीकली रिपोर्टर, 25 अगस्त, 2019, शिमला

लौरेटो कान्वेंट तारा हॉल स्कूल में कीकली चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा आयोजित दो दिवसीय कीकली-डूडल आर्ट फेस्ट का समापन हो गया । दूसरे दिन डॉ.पुर्णिमा चौहान (Secretary Administrative Reforms, Fisheries, Youth Services & Sports, HP) ने कार्यक्रम में मुख्यातिथि के रूप में शिरकत की व वर्कशॉप में बच्चों की कला काबलियत का अवलोकन कर उनके प्रयासों की सराहना की । कीकली ट्रस्ट प्रेज़ीडेन्ट वंदना भागरा ने मुख्यातिथि का शाल और टोपी पहनाकर सवागत किया । यह दो दिवसीय कला महोत्सव दिल्ली के प्रसिद्ध व्यावसायिक दृश्य कलाकारों के कौशल का प्रदर्शन से संपन हुआ दूसरे दिन शिमला के 18 स्कूलों के 350 बच्चों ने अनुभवी प्रतिष्ठित आर्ट कलाकारों से वर्क शॉप में आर्ट के गुर सीखे, इस दौरान बच्चों को विभिन्न कला रूपों जैसे डूलिंग, स्केचिंग, स्क्रॉल पेंटिंग, कार्टूनिंग, ग्राफिक्स, दृश्य सीखने, कहानी कहने का ज्ञान हासिल किया । यह आर्ट फेस्ट एक अत्यधिक इंटरैक्टिव कार्यशाला के रूप में उभरी और शिमला में आयोजित होने वाले “अपनी तरह के इस  पहले कार्यक्रम का बच्चों ने खूब आनंद उठाया ।

इस दौरान मुख्यातिथि डॉ. पुर्णिमा चौहान ने सभागार में उपस्थित अभिभावक वर्ग व विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि बच्चे तो पैदाशयी जीनियस होते हैं । उनकी क्रिएटिविटी को मौका न देकर हम उन्हें आम आदमी में बदल देते हैं, उन्होंने कहा कि वे कीकली शब्द से ही प्रभावित हो उठती हैं । आज के समय में डूडलिंग, स्क्रोल, पेंटिंग, फिलैटली ये सब भूलता जा रहा है ऐसे में कीकली इस विरासत को रिवाइज़ करने का सराहनीय कार्य कर रही है । डॉ पुर्णिमा ने कहा कि बच्चों कि रुचि केवल पढ़ाई तक ही सीमित न रहे इसलिए अभिभावकों को चाहिए कि वे उनके क्रिएटिव पार्ट को मुरझाने न दें ।

उन्होंने कहा कि गालोब्लाइज़ वर्ल्ड में आज आर्ट कि एहमियत बढ़ रही है और आज कला के हर क्षेत्र का भविष्य उज्ज्वल है । अभिभावकों को चाहिए कि वे बच्चों कि पढ़ाई के आगे बढ़ कर सोचें और यदि उनका रुझान आर्ट की तरफ है तो हमें उन्हें उसी तरफ आगे बढ्ने देना चाहिए आर्ट को मरने नहीं देना चाहिए ।

उधर स्टैम्प आर्टिस्ट संखा सामंता ने कीकली से बात करते हुए कीकली डूडल आर्ट फ़ेस्ट के इस आयोजन को ऐतिहासिक करार दिया । सामंता के अनुसार बच्चों की एनर्जी और उनकी कला सोच ने सभी आर्टिस्ट को प्रभावित किया, सामंता ने कहा कि बच्चों में इमेजिनेशन और एनीमेशन की सोच पैदा करना ही उनका मुख्य उदेश्य था । सामंता ने कहा कि बच्चों की आश्चर्यजनक कल्पना शक्ति होती है उनको केवल सही गाइडेंस की आवश्यकता होती है । हमें उन्हें मन से खुश होकर काम में रम जाने की कला की ओर मोड़ना चाहिए ।

इस समारोह की कल्पना एक प्रमुख कार्टूनिस्ट, लेखक और कार्यशाला सलाहकार अजीत नारायण ने की थी, जिन्होंने कार्टून बनाने की कला सिखाने और स्कूली छात्रों को कार्टून बनाने के लिए प्रेरित करने के लिए देश भर में संघर्ष किया है । अजित के साथ उनकी टीम मैं मौजूद रहे लिजी, एडिटर, ऑथर, कंटेंट राइटर; रीमा कमर्शियल आर्ट्स से जुड़ी रही है और नेहा एक सक्षम एच आर प्रोफेशनल रह चुकी है, इन सब ने मिलकर इस कीकली डूडल आर्ट फेस्ट के आयोजन मैं पूरा साथ दिया ।

कीकली डूडल आर्ट फेस्ट 2019 के लिए छह कलाकार – (1) सांखा सामंत: भारत पोस्ट द्वारा जारी महात्मा गांधी पर 33 टिकटों में से 20 के डिजाइनर, 400 से अधिक डाक टिकटों के अपने डिजाइन भी व राष्ट्रीय टिकट लोकप्रियता चुनाव पांच बार जीता है। उनकी रचनात्मकता के परिणामस्वरूप कुछ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त टिकटों – भारत में पहली उभरा टिकट (संसद की स्वर्ण जयंती); पहली सुगंधित (सैंडलवुड) टिकट; और खादी के कपड़े में छपी पहली मोहर विशेष उपलब्धि । (2) वंदना ब्लिस्ट: सर्वश्रेष्ठ चित्रकार और नोमा कॉनौर्स (जापान) बच्चों की पुस्तक चित्रण के लिए Katha कथ चित्रकला पुरस्कार के विजेता, उन्होंने तीन दशकों से अधिक समय तक कई प्रतिष्ठित प्रकाशकों के साथ काम किया है। (3) उदय शंकर गांगुली: एक कार्टूनिस्ट के रूप में टाइम्स ऑफ इंडिया ग्रुप के साथ एक लंबे कार्यकाल के बाद, उदय शंकर ने चित्रों और पुस्तक कवर डिजाइनों के लिए लगभग सभी कला रूपों में भी हाथ आजमाया  है । (4) सुविधा मिस्त्री: उनकी लगभग एक सौ सचित्र पुस्तकें है वे ग्राफिक कला में प्रशिक्षण प्राप्त हैं । उन्होने विभिन्न मल्टीमीडिया और विज्ञापन एजेंसियों के लिए अपने कौशल का योगदान करने के लिए नेतृत्व किया है । वह अपने आवेदन आधारित चित्र के साथ ही पेंसिल, गौचे और पानी के रंग के साथ अपने प्रयोगों के लिए लोकप्रिय हैं । उनके कार्यों के रूप में अच्छी तरह से अंतरराष्ट्रीय बाल पुस्तक समारोह के दौरान Bratislava और कोरिया में प्रदर्शित किया गया है। (5) सलिल शैल: सलिल दिल्ली में Oxymora एनिमेशन स्टूडियो के संस्थापक निदेशक है, और अनुभव के लगभग दो दशकों के साथ एक एनीमेशन फिल्म डिजाइनर और कहानी कलाकार हैं । वह प्रतिष्ठित NCCA, Bournemouth विश्वविद्यालय से एनीमेशन में एक मास्टर की डिग्री रखती है । (6) अमिता खरे: कहानी अकादमी की एक प्रमाणित प्रदर्शन कथाकार, अमिता खरे ने विभिन्न स्कूलों और प्रतिष्ठित त्योहारों में सभी आयु समूहों के बच्चों के साथ कई कार्यशालाएं आयोजित की हैं ।कला उत्सव में शहर के 20 स्कूलों के 350 से अधिक बच्चों और बालिका आश्रम दुर्गापुर और बालिका आश्रम टूटीकंडी के वंचित बच्चों ने कलाकार हस्तियों से ज्ञान हासिल किया । शहर के चैप्सली स्कूल, एच पी एस कैथू, स्वर्ण पब्लिक स्कूल, नॉर्थ ओक पब्लिक स्कूल, सेंट थॉमस स्कूल, सेंट एडवर्ड्स स्कूल, मोनाल पब्लिक स्कूल, डी ए वी स्कूल, चेल्सी स्कूल, जे सी बी स्कूल, सेंट बीडस कॉलेज और मेजबान स्कूल लोरेटो कॉन्वेंट तारा हॉल स्कूल के बच्चे शामिल रहे ।

समर्थन: हमारे प्रायोजकों से मजबूत समर्थन के साथ – SJVNL; सूद सभा शिमला; हॉबी क्राफ्ट और सकुरा; भाषा और संस्कृति विभाग; हिमाचल कला, संस्कृति और भाषा अकादमी; अखिल भारतीय कलाकार संघ; तेनजिन अस्पताल; उदय राज विज्ञापन; आतिथ्य साथी — होटल सम्राट एस एस, और मीडिया पार्टनर्स सिटी चैनल और बिग एफ एम; टीम कीकली, सिटी के बच्चों के लिए इस मेगा इवैंट का आयोजन करने में सक्षम रही ।

इस दौरान वर्क शॉप में अपनी बेहतर कला दिखाने वाले स्कूली बच्चों को मुख्यातिथि द्वारा इनाम भेंट कर उनकी होंसला अफजाई की गई । (CLICK TO SEE ALL VIDEOS)

कार्यक्रम के अंत में सभी आर्टिस्ट को सम्मान से नवाजा गया ।

Winners of Keekli Doodle Art Competition

Sub-Junior Category (Classes 1 to 3): 1st Samaira Thakur – Loreto Convent Tara Hall; 2nd Gauri Chauhan – Loreto Convent Tara Hall; 3rd Gunjan – Swaran Public School

Consolation: 1st Aaradhya Gupta; Loreto Convent Tara Hall; 2nd Aarya Sood; Loreto Convent Tara Hall; Anahat Kaur; Loreto Convent Tara Hall

Juniors (Classes 4 to 8): 1st Rajshree – Loreto Convent Tara Hall; 2nd Avni Singh – Loreto Convent Tara Hall; 3rd Kunal Kumar Chauhan – St Edward’s School

Consolation: 1st Krisaunish Tagaik – St Edward’s School; 2nd Ipshita Panwar – Auckland House School (Girls); 3rd Anusuiya Punta – Auckland House School (Girls)

Senior (Classes 9 to 12): 1st Palak Gera – Loreto Convent Tara Hall; 2nd Yamini Malik – St Thomas School; 3rd Vidisha Jain – Auckland House School (Girls)

Consolation: 1st Hasika Aggarwal – Loreto Convent Tara Hall; 2nd Ruchika – Swaran Public School; 3rd Anshika Gaur – Auckland House School (Girls)

Open category – 1st Harjeet Kaur; 2nd Sofia Chauhan; 3rd Tashi Katoch